Archive for the ‘साहित्‍य अकादमी’ Category

>साहित्‍य अकादमी का कलमाडीकरण या नया विकास

मार्च 26, 2011

>

आज साहित्‍य अकादमी और रमणिका फाउंडेशन के संयुक्‍त तत्‍वावधान में देश भर की तमाम भाषाओं की कवयित्रियों का सम्‍मेलन था। मणिपुरी,बांग्‍ला,मलयाली,कश्‍मीरी,उदू,अंग्रेजी और हिन्‍दी अदि तमाम भारतीय भाषाओं की कवयित्रियों ने कविताएं पढीं। पूरे‍ दिन का चार सत्रों का कार्यक्रम था। ऐसी गहमा गहमी कभी कभी ही दिखती है। देखकर सुखद आश्‍चर्य हो रहा था। पर पिछले वर्षों में जिस तरह अकादमी का आधुनिकीकरण हो रहा है उसके कुछ नमूने भी दिखे। हाल तो अब चकाचक हो गया है। और उसका किराया भी हजार की जगह दस हजार से उपर हो गया है।
       चलिए यह भी ठीक है। इस व्‍यवस्‍था में विकास ऐसा ही होता है। वैसे भी आकदमी और सैमसंग की गंठजोड पर बबाल हो ही चुका है। ऐसे में आज के कार्यक्रम के दौरान अकादमी के आधुनिकीकरण के कुछ नमूने यहां पेश करता हूं।
        कई सत्रों में कार्यक्रम होने के चलते लोग बीच में उठ कर बाहर घूम टहल आ रहे थे। मैं भी बीच में युवा कवि अच्‍युतानंद के साथ बाहर के पार्क नुमा बची जगह में जा बैठा। हम बैठे ही थे कि वहीं एक ओर बैठा गार्ड पास आया और सूचना दी कि यहां बैठने की मनाही है, कि ऐसा किन्‍हीं राजकुमार वर्मा के आदेश से है। हमलोगों ने कहा कि ऐसा है तो यहां लिख कर टांग दो कि यहां बैठना मना है। इस पर वह अपने बॉस के पास गया और लौटा तो बोला कि वर्मा जी आपलोगों को बुला रहे हैं। हमने कहा उन्‍हें ही भेज दो यहां। गार्ड फिर वर्मा जी के पास गया और लौटा तो कुछ नहीं बोला।
        इस बीच हमने ध्‍यान दिया कि जहां हम बैठे हैं वहां की सारी घास सूखी है, कोई घेरा भी नहीं है वहां। उल्‍टा बगल का खेत जुता हुआ सा है और धूल उडकर आ रही है। फिर जिस घेरे की घास पर बैठने से रोका जा रहा था उसी के एक हिस्‍से में घास पर एक टूटी कुर्सी लगी है गार्ड के बैठने के लिए। अगर पार्क की घास बचानी है तो कुर्सी को घेरे के बाहर रखना चाहिए था। फिर अगर सुंदर दिखने का मामला हो तो ऐसी टूटी कुर्सी गार्ड को देना कौन सी सौदर्य दृष्टि है।

        फिर हमने इधर उधर ध्‍यान दिया तो पाया कि अकादमी के मेन गेट पर जिन दो खंभो पर जो छत टिकी है , वे खंभे नीचे से चणक कर टूट रहे हैं और वह छत कभी भी गिर सकती है, यह आप तस्‍वीर में देख सकते हैं कि खंभे कैसी स्थिति में हैं। अब सोचने की बात है कि तमाम सौंदर्यीकरण में लगी अकादमी की व्‍यवस्‍था को हम सूखी घास पर बैठ कर उसे गंदी करते तो दिखते हैं पर मुख्‍य दवार पर ढहता खंभा जो कभी भी किसी की जान को खतरा पहुंचा सकता है, नहीं दिख रहा है।

      
इसी तरह जब गोष्‍ठी का आरंभ हो चुका था पर कुछ लोग अभी चाय पी ही रहे थे तो एक अखबार के पत्रकार मित्र जो वहां आयोजन की खबर लिखने को आए थे चाय का कप लेकर भीतर जा बैठे तो पीछे से एक सज्‍जन ने आकर उन्‍हें कहा कि आप बाहर जाकर चाय पीएं।
      ठीक है , चाय बाहर जाकर पी जा सकती है और घास को हरी देख कर खुश हुआ जा सकता है पर इसे करने का एक तरीका होना चाहिए और पहले तमाम चीजों को दुरूस्‍त करने के बाद ही लोग खुद इन चीजों का ख्‍याल करेंगे। पर ऐसे खेत नुमा मैदान और टूटे खंभों से गुजरने के बाद लेखक बिरादरी अलग से सौंदर्य सचेत हो यह सहज नहीं।
    

Advertisements