जून 2011 के लिए पुरालेख

सितारों की कविता

जून 22, 2011

कुछ प्रकाशवर्षों तक

पहुंचती रहेगी मेरी रोशनी तुम तक

तब भी जब नहीं रहेगा मेरा अस्तित्‍व

इस रोशनी को ढूंढती
जब पहुंचोगी मंजिल तक

मैं बदल चुका होउंगा
एक ब्‍लैकहोल में
….

फिर
तुम ना पहुंच सकोगी मुझ तक

ना वापिस जा सकोगी

कहीं भी

इस ब्रहमांड में …..

>रक्तस्विनी – कुमार मुकुल

जून 14, 2011

>उसके पैरों में घिरनी लगी रहती है
अंतरनिहित बेचैनी में बदहवास
भागती फिरती है वह
इस जहां से उस जहां तक

सितारे
आ आकर मरते रहते हैं
उसके भीतर

जिन सितारों को
अपना रक्त पिलाकर पालती है वह

वे दम तोड़ देते हैं एक दिन
उसकी ही बाहों में
अपनी चमक उसे सौंपते हुए

यह चमक
कतरती रहती है
उसका अंतरतम

सितारों की अतृप्त अकांक्षाएं
हर पल उसे बेचैन रखती हैं
वह सोचती है कि
अब किसी सितारे को
मरने नहीं देगी अपनी पनाह में
और रक्तस्विनी बन हरपल
उनके लिए प्रस्तुत
भागती रहती है वह
इस जहां से उस जहां तक …