>बहुत तेज बेचता है वह …

>बलात्‍कारी नहीं सवर्ण पैदा हुआ था वह
अपने रंग और आर्थिक आधार से असंतुष्‍ट
एक सवर्ण
एक जनकवि की छवियां बेचता
मजमे लगाने की उस्‍तादी सीखता
नमूदार हुआ था दृश्‍यपटल पर

फिर
जनकवि की लकुटी कमरिया फेंक
कब वह बाहुबली का जूता बन गया
उसे भी कहां याद होगा

तब से
कविता उसका दु:स्‍वप्‍न है
और बलात्‍कार उसका पेशा
उसका नुस्‍खा
टीआरपी बढाने का

पहला बलात्‍कार उसने जनाकांक्षा का किया था
जब क्षेत्रीय बाहुबली का चारण बन
जन की जगह गन के गीत गाये थे
फिर तो बाहुबलियों के जूते ढोता
जा पहुंचा राष्‍ट्रीय बाहुबली के दरबार में
वहां स्‍त्रीविमर्श विचारते
अपनी नवव्‍याहता की मुंहदिखायी ली उसने
और बाग बाग होता
लिखा बाहुबली चालीसा

अबतक
मदारी से बाजीगर हो चुका था वह
आत्‍महत्‍या धोखाधडी बलात्‍कार की फंतासियों से खेलता
एक चतुर बाजीगर
जो बीच बीच में दूजे रंगों से बचने को
जनकवि की काली कमली ओढ लिया करता
जनसम की रसम निभा दिया करता

यूं
पहचानने वाले
पहचान ही लेते हैं उसे

अजय कहते हैं अक्‍सर
बहुत तेज बेचता है वह

हां
बहुत तेज बेचता है वह
जनकवि की छवियां अखबार में
नवव्‍याहता की छवियां
बाहुबली के दरबार में

बहुत तेज बेचता है वह…

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: