>कुछ लोग जिनके आरोग्‍य में मदद मिली होम्‍योपैथी से

>राजूरंजन प्रसाद – पटना

राजू मेरे अभिन्‍न मित्रों में हैं, हमारी दोस्‍ती के अब दो दशक होने को हैं वे मेरे पडोसी भी हैं। गहरी दोस्‍ती के बावजूद होम्‍योपैथी पर उनका विश्‍वास नहीं था। जबकि उनके ससुर होम्‍योपैथी में ही हर मर्ज की दवा ढूंढ लेते हैं। अब भी अगर मैं पटना जाता हूं तो सबसे पहले राजूजी से ही मिलता हूं और हर मुलाकात में उनके ससुर के पास किसी ना किसी मामले में होम्‍योदवा के बारे में पूछने को कुछ ना कुछ रहता है।
राजूजी से दोस्‍ती के तब पांचेक साल हुए थे और वे सिरदर्द से परेशान रहते थे सालों से और पेन कीलर की मात्रा बढती जा रही थी उनके खाते में स्थिति में अंतर नहीं पड रहा था तो अब कैट स्‍कैन की बारी थी तो मैंन टहलते हुए उनसे कहा कि जो इलाज करा रहे हैं वह कराइए पर एका बार होम्‍यो दवा भी ले कर देखिए। परेशानी बढी तो वे विचार करने को राजी हुए। मैंने उनके तमाम लक्षण लिखे। जिससे जाहिर हुआ कि यह सब कफ नही निकलने से हो रहा है और डाक्‍टर आपरेट कर कफ से जाम रास्‍ते को साफ करने की बात कर रहे हैं इसी के लिए कैट स्‍कैन होना है।
उनकी खान पान आदि की बातें जानकर मैंने जब दवाएं छांटीं तो अंत में दो दवा बची – पल्‍साटिला और कैल्‍के कार्ब, अब होम्‍यो सिद्धांत के अनुसार अब इसमें एक दवा चुननी थी।
सारे लक्षण दोनों दवा के मिल रहे थे राजू से पर एक बात थी जो पूछनी बाकी थी , मैंने पूछा कि आपको खुली हवा पसंद है या आप बंद कमरे में रहने में असुविधा महसूस नहीं करते। राजू ने बताया कि वे खुली हवा पसंद करते हैं। बस इस पर दवा का चुनाव कर लिया मैंने। पल्‍साटिला। 200 पावर में एक दो खुराक में ही उनको राहत मिली और वे आपरेशन से बच गए। उसके बाद से राजू जी और उनका परिवार होम्‍योपैथी की दवाएं आम तौर पर लेने लगे।
उनकी पत्‍नी तब बहुत दुबली पतली थीं और उनकी परेशानी थी कि कमजोरी से उन्‍हें चक्‍कर आता है , यह सुनकर मुझे पढा हआ याद आ गया कि अगर कोई मरीज आपके पास अपनी परेशानी लेकर आए और कहे कि उसे कमजोरी से चक्‍कर आ रहा है तो पहले चायना 6 की एक फाइल खाकर आने को कहिए। चायना ने उन्‍हें बहुत फायदा किया। और उनके लिए तब से मैं बडा डाक्‍टर बन गया।
इसी तरह उनके बेटे को जो अब कद्दावर हो गया है तब स्‍कूल जाने के समय पेट दर्द हो जाया करता था। उसे मैंने कैल्‍के फॉस दी और उससे उसकी यह परेशानी जाती रही।

Advertisements

3 Comments »

  1. >ji sahi kah rahe hain ………homoeopathic mein bahut hi kargar ilaaj ho jata hai.

  2. >आप होमियोपैथी के प्रचलन के लिए अच्छा काम कर रहे हैं। इस तरह के एक ब्लाग की हिन्दी में आवश्यकता थी। कृपया टिप्पणी पर से शब्द पुष्टिकरण हटा दें, टिप्पणीकर्ताओं को कुछ आसानी हो जाएगी।


RSS Feed for this entry

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: