>इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती

>यह कविता मैंने 1989-90 में लिखी थी। तब पटना से सीपीआई का एक दैनिक जनशक्ति निकला करता था, उसमें आलोचक व कवि डॉ.खगेन्द्र ठाकुर ने मेरी दो कविताएं छापी थीं, जिनमें एक यह भी थी। 2000 में जब मेरा तरीके से पहला कविता संकलन परिदृश्यठ के भी‍तर निकला तो मैंने उसकी कविताएं चयन का काम अनुज कवि नवीन को दिया था, तो यह कविता अपने अलग मिजाज के चलते संकलन में नहीं ली गयी थी। 2006 में जब मेरा दूसरा संकलन ग्यािरह सितंबर और अन्यल कविताएं छपी तो उसमें कविताएं चयन का काम मैंने अपने कवि मित्र आरचेतन क्रांति को दिया था,उसमें यह कविता संकलित की गयी। 2006 में कादंबिनी में यह कविता विष्णु नागर ने छापी। अब जाकर 2009 में अग्रज कवि मित्र रामकृष्णा पांडेय ने जब भोपाल से निकलने वाले अखबार नवभारत के एक विशेषांक, जिसका संपादन डॉ.नामवर सिंह ने किया, के लिए विषय आधारित कविता मांगी तो मैंने यही कविता दी उन्हें , जो वहां छपी भी। अब चौथी बार यह कविता जन संस्‍कृति मंच की स्‍मारिका में छपी है। पहली बार इस कविता का पारिश्रमिक कुछ नहीं था,कादंबिनी से 500 रूपये मिले थे और नवभारत से इस कविता के लिए 2000 मिले। तो कविता की रचनाप्रक्रिया ही नहीं उसकी प्रकाशन प्रक्रिया भी मजेदार होती है ये इच्छाएँ थीं कि एक बूढ़ा पूरी की पूरी जवान सदी के विरुद्ध अपनी हज़ार बाहों के साथ उठ खड़ा होता है और उसकी चूलें हिला डालता है ये भी इच्छाएँ थीं कि तीन व्यक्ति तिरंगे-सा लहराने लगते हैं करोड़ों हाथ थाम लेते हैं उन्हें और मिलकर उखाड़ फेंकते हैं हिलती हुई सदी को सात समंदर पार ये इच्छाएँ ही थीं कि एक आदमी अपनी सूखी हडि्डयों को लहू में डूबोकर लिखता है श्रम-द्वंद्व-भौतिकता और विचारों की आधी दुनिया लाल हो जाती है इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती अगर विवेक की डांडी टूटी न हो बाँहों की मछलियाँ गतिमान हों तो खेई जा सकती है कभी-भी इच्छाओं की नौका अंधेरे की लहरों के पार।अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा… कविता की प्रकाशन प्रक्रिया रोमांचित करती है।और कविता पर तो क्या कहूं।June 7, 2009 2:14 AM Udan Tashtari ने कहा… बहुत बढिया.August 22, 2008 10:15 AM दिनेशराय द्विवेदी ने कहा… इस यथार्थ कविता की प्रशंसा के लिए शब्द नहीं हैं मेरे पास।August 22, 2008 10:27 AM pallavi trivedi ने कहा… इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती अगर विवेक की डांडी टूटी न हो बाँहों की मछलियाँ गतिमान हों तो खेई जा सकती है कभी-भी इच्छाओं की नौका अंधेरे की लहरों के पार। कितनी सही बात…सचमुच इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती है!August 22, 2008 10:55 AM Mrs. Asha Joglekar ने कहा… इच्छाओं की कोई उम्र नहीं होती अगर विवेक की डांडी टूटी न हो बाँहों की मछलियाँ गतिमान हों तो खेई जा सकती है कभी-भी इच्छाओं की नौका अंधेरे की लहरों के पार। kamal kee rachna, bahut sunder.August 22, 2008 12:21 PM

Advertisements

1 Comment »

  1. 1

    >mukulji hum orkut sejude hai lekin aapke blog par kabhi nahi aa paya… ichhaon ki koi umr nahi hoti padh kar bhitar se udwelit ho gaya hoo… bahut dino baad koi dhang ki kavita padhne ko mili… sachmuch ichhaon ki koi umr nahi hoti… kabhi samay mile to humare blog par aaye… http://www.aruncroy.blogspot.com


RSS Feed for this entry

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: