>भीम काका नहीं रहे – कुछ संस्‍मरण नुमा

>भीम चाचा की जो याद हमेशा जेहन में रहती है उसमें वे कंधे पर चावल का बोरा लिए बस में चढाने चले आ रहे, गांव के प्रवेशद्वार पर, बांध की ढलान पर, जहां बस रूकती है। जब वे मिलिट्री में थे तो अक्‍सर घर में उनकी चिट्ठी आती रहती थी,एक बार जब अंतरदेशीय आया तो उसमें लिखा था कि उन्‍होंने बंदूक खरीद ली है,तब मैंने मां को कहा था कि उन्‍हें लिख दीजिए क‍ि अगली बार हवाई जहाज खरीद लें। मैं समझता था कि बंदूक के बाद अगली शै जहाज ही है जिसे खरीदा जाना चाहिए। वे कभी-कभार हवाई जहाज से यात्रा का जिक्र करते थे तो मैं समझता थाकि उसे भी खरीद सकते हैं वे।
इंटर में पहली बार मैं अपने इलाके यानि आरा जिले में पढने के सिलसिले में आया था। महाराजा कालेज में नामांकन के बाद स्‍टेशन के पास ही पास के गांव के एक वकील साहब के लॉज में रहता था मैं भी। तब दो सौ रूपये महीने में मेरा काम चल जाता था। गांव से कभी-कभार चावल दाल आदि लाकर मेस में दे दिया करता था। तब चाचा रिटायर कर गये थे। गांव जाता तो वे कभी कभार अपनी बंदूक साफ करने का काम मुझे सौंप देते। शादी व्‍याह में भी उनकी बंदूक मैं ही चलाता। वे कंधे पर बट टिका उसे चलाने की सलाह देते पर मुझे हमेशा उसे उपर हाथ हवा में उठाकर चलाना अच्‍छा लगता,और जब बुलेट गोली मैं दागता तो कंधे जोश से कडे हो जाते। चाचा बताते कि इससे हाथी भी ढेर हो जाता है।
गांव में रहता तो चाचा के साथ हारिल के शिकार पर जाता और उस बगुले के जो दिन में सोता रहता है पेड पर। उन बगुलों के पेट से कभी मछली निकलती काटने पर तो बडा मजा आता सोचता काश बडी मछली निकले तो मछली खाने का भी आनंद मिले। शादी व्‍याह में चूंकि मैं बंदूक लेकर चलता उनकी तो स्‍वाभाविक था कि किसी को कुछ समझता नहीं था। इससे अन्‍य लोगों को तो अंतर नहीं पडता था पर जो बदमाश किस्‍म के लोग होते वे चिढते,उन्‍हें मैं चुनौती की तरह लगता या फिर वे मुझे अपनी जमात में खींचना चाहते । पर पिता की छवि ऐसी थी कि वे ऐसा सोच नहीं पाते थे। ऐसे में ही एक बार मैं एक लंगडे से आदमी से उलझ गया बाद में पता चला कि वह उस इलाके में डकैती डालता था। झगडा हुआ तो अंत तक मैं अपनी जिद पर अडा रहा और उसे ही अंतत हटना पडा मामला क्‍या था याद नहीं आ रहा , छोटे मामा ने तब कहा था इ सब लुच्‍चा लहेंडा हवन स,एहनी से मुह ना लागे के।
भीम काका लंबे गोरे खिलाडी आदमी थे। संदेश थाने पर जब बॉलीबाल का मैच होता तो नेट के पास स्‍ट्राइकर की जगह पर वे ही रहते और बहुत अच्‍छा शॉट मारते। मैं लंबा होते हुए भी उस जगह पर कभी अच्‍छा नहीं खेल पाया, लगता यह उनके अच्‍छा खेलने की वजह से पैदा हीनता बोध के चलते हुआ हो। यूं बीच वाली जगह से खेलना मुझे ज्‍यादा अच्‍छा लगता क्‍यों कि वहां से ताकत का प्रयोग मैं ज्‍यादा कर पता था, उस जगह से हुरमूठ की तरह खेलना आसान था। पर बाद में मैंने देखा कि सर्विस वाली जगह सबसे मुफीद है मेरे लिए। बाद में तो अक्‍सर सर्विस कर खेल को अंत में जीत लेना मेरी आदत बन गयी थी। अच्‍छी सर्विस मैंने विनोद चाचा से सीखी थी वे कद में छोटे थे पर नेट से सटा कर सर्विस देना या ऐन स्‍ट्रोक के वक्‍त शॉट की दिशा अचानक बदल कर धोखे से बॉल कहीं गिरा देने की कला मैंने उनसे ही सीखी थी।
जब लॉज में मैं रहता था तब कामाख्‍या नाम का एक लडका वहां आता था जिसके पास अक्‍सर एक रिवाल्‍वर होती थी , हालांकि वह हमेशा सलीके से पेश आता था, पर मेरी टार्च कलम आदि वह अक्‍सर ले जाता और लौटाना भूल जाता तो लगता वह रिवाल्‍वर रखने के चलते समझता है कि उससे दी गयी चीज मांगी ही नहीं जा सकती। तो एक बार उसे डराने को एक शादी से लौटते वक्‍त भीम चाचा की बंदूक की गोलियां साथ लेता आया और कामाख्‍या को किसी बहाने दिखाया कि मेरे पास भी हथियार हैं, यह तरीका काम कर गया और आगे उसने मेरा सामान लौटा दिया।
गांव में कभी कभार जब सोता तो चाचा का कट्टा और गोंलियां तकिए के नीचे लेकर सोचा। पर शादी और चिडिया मारने के अलावे कभी और किसी काम नहीं आयी बंदूक। चूंकि चाचा इलाके में लोकप्रिय थे और हर तबके के लोगों का समान सम्‍मान करते थे। मुस्लिम त्‍योंहारों में लाठी भांजने के खेल में भी हिस्‍सा लेते थे वे। गांव के मुसलमानों से उनकी दोस्‍ती थी, जिनसे वे मुझे भी मिलवाते। मिलिट्री में जाने से लगता है उनका अच्‍छा सामाजीकरण हुआ था पर उस सामाजीकरण का अच्‍छा उपयोग उन्‍होंने ही किया । गांव के मुखिया उनके लंगोटिया यार रहे हमेशा। एक बार मुखिया के साथ उन्‍होंने थाने में जाकर दारोगा की लाठियों से पिटाई कर दी थी। तब अंबिका स्‍वर्ण सिंह जो मंत्री थे उनकी ससुराल मुखिया के घर थी सो तमाम तमाशे के बाद भी पुलिस गांव में आकर चाचा को गिरफतार नहीं कर पायी। चाचा कुछ दिन गायब भी रहे । फिर केस चलता रहा।
इस घटना के बाद तो चाचा हीरो हो गये इलाके में। उनके मरनी के काम में मुखिया, जो अब उस पद पर नहीं है,हमेशा हर काम में आगे रहे, सुरेश मास्‍टर साहब ने मजाक भी किया कि स्‍वर्ग में आपका भी पतरा पलटा रहा होगा और जल्‍दी ही बुलाया जाएगा तो सभी हंसने लगते थे। – जारी

Advertisements

1 Comment »

  1. 1
    Anil Says:

    >आपके भीम काका काफी बिजली-भरे चरित्र थे। अगली कड़ी का इंतजार रहेगा।


RSS Feed for this entry

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: