>अक्‍लदाढ़ का दर्द

>चर्चित कवि मंगलेश डबराल को जब आयोवा यात्रा के दौरान भयानक दांत दर्द ने परेशान किया, तो जांच के बाद डाक्‍टरों ने पूछा कि आपकी अक्‍लदाढ़ उखाड़नी होगी, तो मंगलेश ने इस पर चुटकी लेते कहा – अगर अक्‍लदाढ़ उखड़वाना ही इलाज है तो मैं उसे स्‍वदेश में ही उखड़वाउंगा। और भारत आने तक उन्‍होंने दर्द निवारक दवा से काम चलाया।
मतलब अमेरिका जैसे सुविकसित देश में भी दांत दर्द का इलाज उसे अंतत: उखड़वाना ही होता है। पर अगर लक्षणों का मिलान कर होम्‍योपैथी की सही दवा का प्रयोग किया जाए, तो आप दांत निकलवाने से लंबे समय तक बच सकते हैं।
अक्‍सरहां दांत दर्द होने पर मर्क साल 30 और थूजा 30 का प्रयोग उसकी अधिकांश समस्‍याओं का निदान कर देता है।

Advertisements

2 Comments »

  1. >इसके अलावा और भी कई होम्योपैथिक औषधियों का महत्व है , जैसे-[Complete ] [Teeth]Wisdom teeth, ailments from eruption of:Total Drugs :82 Calc :Calcarea carbonica Hahnemanii2 Fl-ac :Fluoricum acidum2 Mag-c :Magnesia carbonica2 Sil :Silicea; Silica terra1 Cham :Chamomilla vulgaris1 Chap :Chaparro amargoso; Castella texana1 Cheir :Cheiranthus cheiri1 Ozone :Ozonumऔषधियाँ ग्रेडींग के हिसाब से दी हैं। local apllication के लिये cherianthus Q का प्रयोग उत्तम है ।

  2. 2

    >bhai homeopaty sidanto ke parbhav se bhari ek kahani mene likhi he. pahal-84 me he.


RSS Feed for this entry

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: